Top
Home > बिजनेस > आम आदमी को दोहरा झटका, पेट्रोल-डीजल के बाद महंगाई भी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें महंगी

आम आदमी को दोहरा झटका, पेट्रोल-डीजल के बाद महंगाई भी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें महंगी

आम आदमी को दोहरा झटका, पेट्रोल-डीजल के बाद महंगाई भी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें महंगी

पेट्रोल-डीजल के बाद अब महंगाई...Editor

पेट्रोल-डीजल के बाद अब महंगाई भी बढ़ने लगी है. तीन महीने से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आ रही तेजी का असर अप्रैल में थोक महंगाई पर दिखाई दे रहा है. वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल के दौरान थोक महंगाई दर (WPI) 4 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. अप्रैल में थोक महंगाई 3.18 फीसदीी पर पहुंच गई है. मार्च में यह दर 2.47 फीसदी थी. पिछले साल अप्रैल में महंगाई 3.85 फीसदी थी. इस बीच फरवरी की थोक महंगाई दर 2.48 फीसदी से संशोधित होकर 2.74 फीसदी हो गई है. खाने-पीने की चीजों की थोक महंगाई दर भी बढ़ी है.


पेट्रोल-डीजल की वजह से बढ़ी महंगाई
थोक महंगाई दर बढ़ने के पीछे ईंधन यानी पेट्रोल-डीजल की कीमतों को वजह बताया जा रहा है. WPI में फ्यूल और पावर इंफ्लेशन 4.7 फीसदी से बढ़कर 7.85 फीसदी रही है. मार्च में इनकी महंगाई में सिर्फ 4.70 फीसदी थी और पिछले साल अप्रैल में 17.11 फीसदी थी. महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में खाद्य थोक महंगाई दर -0.07 फीसदी से बढ़कर 0.67 फीसदी रही है.
खाने पीने की चीजें हुईं महंगी
अप्रैल महीने में सब्जियों से जुड़ी महंगाई दर -2.7 से मुकाबले -0.89 फीसदी पर आ गई. वहीं, खाद्य महंगाई दर -0.07 फीसदी से बढ़कर 0.67 फीसदी पर आ गई. महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में आलू की थोक महंगाई दर 43.25 फीसदी से बढ़कर 67.94 फीसदी रही है. हालांकि, महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में प्याज की थोक महंगाई दर 42.22 फीसदी से घटकर 13.62 फीसदी रही है. दालों की महंगाई दर -20.58 फीसदी के मुकाबले -22.46 फीसदी रही. प्राइमरी आर्टिकल्स से जुड़ी महंगाई दर 0.24 फीसदी से बढ़कर 1.41 फीसदी हो गई है.

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को भी झटका
मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जुड़ी महंगाई दर अप्रैल महीने में 3.03 फीसदी से बढ़कर 3.11 फीसदी रही है. वहीं फ्यूल एवं पावर से जु़ड़ी महंगाई दर 4.70 फीसदी से बढ़कर 7.85 फीसदी रही है. अप्रैल में कोर WPI 3.6 फीसदी पर बरकरार रही है. अंडे एवं मांस से जुड़ी महंगाई दर -0.82 फीसदी से -0.2 फीसदी पर पहुंच गई है.

खतरे की आशंका: ...और महंगा होगा पेट्रोल-डीजल, महंगाई बढ़ने के भी आसार!

बीते महीनों का हाल

मार्च महीने में WPI महंगाई दर 2.47 फीसदी थी
फरवरी महीने में WPI महंगाई दर 2.74 फीसदी (संशोधित)
जनवरी महीने में WPI महंगाई दर 2.84 फीसदी
दिसंबर महीने में WPI महंगाई दर 3.58 फीसदी
नवंबर महीने में WPI महंगाई दर 3.93 फीसदी

Tags:    
Share it
Top