Top
Home > मुख्य समाचार > सेक्स वीडियो चैट कर IAF ऑफिसर बना लड़की का दीवाना, बताई देश की सीक्रेट बातें

सेक्स वीडियो चैट कर IAF ऑफिसर बना लड़की का दीवाना, बताई देश की सीक्रेट बातें

सेक्स वीडियो चैट कर IAF ऑफिसर बना लड़की का दीवाना, बताई देश की सीक्रेट बातें

भारतीय वायुसेना के एक ग्रुप...Editor

भारतीय वायुसेना के एक ग्रुप कैप्टन को खुफिया जानकारी लीक करने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI ने हनीट्रैप के जरिए ग्रुप कैप्टन से खुफिया जानकारी हासिल की.


ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह फेसबुक के जरिए दो महिलाओं के संपर्क में आया था. बाद में वह खुफिया जानकारी वॉट्सएप के जरिए भेजने लगा. ग्रुप कैप्टन पर सरकारी गोपनीयता कानून के तहत केस दर्ज कर लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक वायुसेना मुख्यालय में तैनात रहे ग्रुप कैप्टन को काउंटर इंटेलिजेंस विंग की ओर से करीब 10 दिनों तक की गई पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया. उसे पांच दिन के रिमांड पर भेज दिया गया है.

उसने एक सोशल मीडिया वेबसाइट के जरिए महिला से दोस्ती की थी. वह किरन नाम की महिला से सेक्स वीडियो चैट के लिए इतना बेचैन हुआ कि उसने महिला को नया सिम कार्ड तक दिलाया. वायुसेना ने इस मामले में अभी आधिकारिक तौर पर कोई बयान नहीं दिया है. अधिकारी दोषी पाया गया तो उसे सात साल तक की जेल हो सकती है.

अधिकारी वायुसेना मुख्यालय में तैनात था. सूत्रों के मुताबिक वायुसेना के केंद्रीय सुरक्षा एवं जांच दल ने एक नियमित जासूसी रोधी चौकसी के दौरान पाया कि अधिकारी अनधिकृत इलेक्ट्रानिक उपकरणों के जरिए अवांछित गतिविधियों में लिप्त था.

सेना के लिए सोशल मीडिया पर सक्रिय होने के लिए एक सख्त संहिता है. इसके तहत सैनिकों को अपनी पहचान, पद, तैनाती और अन्य पेशेवर विवरण साझा करने पर पाबंदी है. उन्हें वर्दी में अपनी तस्वीर भी लगाने पर पाबंदी है.

बताते चलें कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI भारत में जासूसी करने के लिए हनीट्रैप का सहारा ले रही है. इसमें जवानों को मोहरा बनाया जा रहा है. साल 2015 में रंजीत केके नाम के एक एयरमैन को अरेस्ट किया गया था. बर्खास्त होने से पहले वह बठिंडा बेस पर तैनात था. उसे दिल्ली पुलिस के अपराध शाखा, सैन्य खुफिया और वायुसेना यूनिट ने ज्वाइंट ऑपरेशन चलाकर पकड़ा था. उसे एक पाकिस्तानी लेडी एजेंट ने अपने जाल में फंसाया था.
इसी छानबीन में पता चला है कि मामले की शुरुआत फेसबुक चैटिंग से हुई थी. पाकिस्तानी एजेंट उससे फेक अकाउंट के जरिए बातचीत करती थी. पाकिस्तानी महिला एजेंट ने रंजीत को जॉब ऑफर करने के बहाने संपर्क किया था. दोनों के बीच बातचीत फेसबुक, स्काइप और व्हाट्सएप पर हुई थी. इस दौरान रंजीत ने ऐसी कई गुप्त जानकारियां एजेंट को दे दीं, जो सेना के लिहाज से अहम थीं. उसने विमानों की सटीक संख्या का खुलासा कर दिया था.


Tags:    
Share it
Top