Top
Home > मुख्य समाचार > दिल्ली: हैदराबाद हाउस में PM मोदी-नेतन्याहू के बीच बैठक शुरू,ये MoU पर होंगे साइन

दिल्ली: हैदराबाद हाउस में PM मोदी-नेतन्याहू के बीच बैठक शुरू,ये MoU पर होंगे साइन

दिल्ली: हैदराबाद हाउस में PM मोदी-नेतन्याहू के बीच बैठक शुरू,ये MoU पर होंगे साइन

इजरायल के प्रधानमंत्री...Editor

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भारत में छह दिवसीय दौरे पर आए हुए हैं। आज उनके दौरे का दूसरा दिन है और उन्हें राष्ट्रपति भवन में गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया।


- गॉर्ड ऑफ ऑनर के बाद पीएम नेतन्याहू राजघाट पहुंचे हैं, जहां उन्होंने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी है।

- पीएम नेतन्याहू ने कहा कि शांति और खुशहाली के लिए दोनों देशों में साझेदारी होना बेहद अहम है।
- नेतन्याहू ने यह भी कहा ये दोस्ती दोनों देशों में शांति लाएगी।
- उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के इजरायल दौरे से दोस्ती की शुरुआत हुई है।
इससे पहले रविवार को पीएम मोदी ने पीएम नेतन्याहू को प्रोटोकॉल तोड़कर रिसीव किया और फिर दिल्ली के ऐतिहासिक तीन मूर्ती चौक को 'हाइफा' नाम से जोड़कर दोनों देशों के रिश्तों को और मजबूती दी। अब दोनों के नेता सोमवार रात हैदराबाद हाउस में शानदार डिनर करेंगे। दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय वार्ता और प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता आज हैदराबाद हाउस में होगी।

नेतन्याहू अपनी भारत यात्रा में अब तक के सबसे बड़े प्रतिनिधिमंडल के साथ पहुंचे हैं। अपनी इस यात्रा के दौरान नेतन्याहू मंगलवार को आगरा में ताजमहल का दीदार करने के बाद अहमदाबाद और मुंबई भी जाएंगे।
तेल और गैस क्षेत्र में निवेश
भारत और इजरायल के बीच पहली बार तेल और गैस क्षेत्र में निवेश होने की संभावना है। तकनीकी क्षेत्र में बेहतर समझा जाने वाला इजरायल रिन्यूवेबल एनर्जी में भारतीय कंपनियों को तकनीकी फायदा देगा, इसके लिए भी समझौता होने की उम्मीद है।

उड्डयन क्षेत्र में कई समझौते

दोनों देशों के बीच उड्डयन क्षेत्र को लेकर भी कई समझौते हो सकते हैं, 2017 में पीएम मोदी के इजरायल दौरे के दौरान हुए साइबर सिक्‍योरिटी समझौते को और व्‍यापाक बनाने की कोशिश होगी और दोनों देशों के रिश्तों में पहले से ज्यादा मजबूती आएगी।

फलस्तीन पर भी होगी बात

आज पीएम मोदी और नेतन्याहू की बातचीत कई मामले में बेहद अहम होगी। इजरायल खासतौर पर फलस्तीन के मुद्दे पर भारत का रुख टटोलेगा। यरुशलम को इजरायल की राजधानी बनाने का संयुक्त राष्ट्र में भारत की ओर से विरोध किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच शीर्ष स्तर पर यह पहली मुलकात होगी। दूसरी ओर भारत की निगाहें इजरायल से कृषि और रक्षा क्षेत्र की अहम तकनीक हासिल करने पर होगी।

Tags:    
Share it
Top