Top
Home > प्रदेश > बिहार > बिहार में महागठबंधन के लिए अहम दिन, आज तय होगा सीट बंटवारे का फॉर्मूला

बिहार में महागठबंधन के लिए अहम दिन, आज तय होगा सीट बंटवारे का फॉर्मूला

बिहार में महागठबंधन के लिए अहम दिन, आज तय होगा सीट बंटवारे का फॉर्मूला

सीट बंटवारे के लिए महागठबंधन...Editor

सीट बंटवारे के लिए महागठबंधन के घटक दल भी अब सक्रिय होने लगे हैं। सबकी अलग-अलग तैयारी है। अब साथ-साथ बैठकर कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा और किसके पास कितने दमदार उम्मीदवार हैं, इन बातों का समग्रता में आकलन होना है। इसके लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के आवास पर सोमवार को समन्वय समिति की बैठक हो रही है। खरमास के बाद इसके फैसलों का खुलासा भी कर दिया जाएगा।

बॅैठक में ये रहेंगे शामिल

महागठबंधन में समन्वय समिति की औपचारिक घोषणा अभी नहीं हुई है, लेकिन बैठक में राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) से तेजस्वी यादव एवं आलोक मेहता, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा, हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा (हम) से जीतनराम मांझी एवं वीआइपी से मुकेश सहनी के मौजूद रहने की संभावना है।

महागठबंधन में सीट शेयरिंग का दबाव

भाजपा-जदयू और लोजपा में सीट बंटवारे के बाद महागठबंधन के घटक दलों पर भी जल्द से जल्द सीट बांटने का दबाव पड़ रहा है। इस दौरान रांची में राजद प्रमुख लालू प्रसाद से घटक दलों के प्रमुख नेताओं की कई दौर की बात-मुलाकात से बहुत हद तक तस्वीरें साफ हो गई हैं।

घटक दलों के बीच समग्रता में मंथन जरूरी

माना जा रहा है कि राजद की ओर से लालू प्रसाद ने धुंध हटा दिया है। कांग्रेस के शक्ति सिंह गोहिल एवं मदन मोहन झा ने भी अपने स्तर से सीटों का आकलन कर लिया है। मांझी और कुशवाहा की ओर से पांच-पांच सीटों की दावेदारी की जा चुकी है। महागठबंधन में हाल में आए मुकेश सहनी ने भी अपेक्षाओं का इजहार कर दिया है। ऐसे में सभी घटक दलों के प्रतिनिधियों की समग्रता में मंथन जरूरी है।

तालमेल का स्वरूप होगा तय

'हम' के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान के मुताबिक सीटों की दावेदारी से पहले किस सीट के लिए तालमेल का स्वरूप क्या होगा, किसके पास क्या रणनीति है, कौन प्रत्याशी बेहतर होगा, कहां कौन वोट ट्रांसफर करा सकता है, कहां क्या अड़चन आ सकती है, उससे निपटने की क्या रणनीति हो सकती है, जैसे सवालों पर मंथन जरूरी है। तेजस्वी यादव और शक्ति सिंह गोहिल की तरफ से कई बार कहा जा चुका है कि सीट बंटवारे में किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी। सबके एजेंडे में ज्यादा से ज्यादा सीटें निकालने पर फोकस होगा।

Share it
Top