Top
Home > प्रदेश > बिहार > गरीबों के लिए शुरू की पेंशन योजना सीएम नीतीश: बिहार

गरीबों के लिए शुरू की पेंशन योजना सीएम नीतीश: बिहार

गरीबों के लिए शुरू की पेंशन योजना सीएम नीतीश: बिहार

सीएम नीतीश कुमार ने वृद्ध...Editor

सीएम नीतीश कुमार ने वृद्ध पेंशन योजना की शुरुआत की. सरकार के समाज कल्याण विभाग को नीतीश कुमार ने इस मौके पर धन्यावाद दिया और कहा कि यह योजना 1 अगस्त से शुरू होना था लेकिन समाज कल्याण विभाग ने पहले ही इस योजना की शुरुआत कर दी. इस योजना के अंतर्गत 60 वर्ष से अधिक आयु के गरीब लोगों को प्रति माह 400 रुपये और 80 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को प्रति माह 500 रुपये मिलेंगे.

बता दें कि बिहार सरकार ''सीएम वृद्धजन योजना'' का पूरा खर्च खुद वहन कर रही है इसमें किसी प्रकार की कोई सहायता केंद्र सरकार से नही ली जा रही है. 'वृद्धजन पेंशन योजना' का लाभ पाने के लिए ऑन-लाइन अप्लाई किया जा सकता है. इस योजना के लिए अप्लाई करने के 2 दिन के अंदर पेंशन का लाभ मिलेगा.सरकार के इस योजना के लिए अभी तक लगभग 2 लाख लोगों ने आवेदन दिया है. पेंशन योजना के अंतगर्त राज्य सरकार का 1800 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च होगा.

नीतीश सरकार मां-बाप की सुरक्षा और उनकी देखभाल को लेकर काफी सजग दिख रही है. बच्चे माता-पिता का ख्याल नही रखते तो एसडीओ को पास इसकी शिकायत की जा सकती है. एसडीओ के बाद इस मामले को सीधा डीएम देखेंगे और करवाई जी जाएगी. समाज मे जो लोग अपने माता-पिता की उपेक्षा करते हैं सरकार ने उनके लिए काननू बनाया है. माता पिता की सेवा पर बने कानून की जानकारी दूसरे राज्य के लोग ले रहे हैं.

2011 के आकलन के बाद 35 से 36 लाख वृद्ध पेंशन से निवृत्त है. उन्हें पेंशन देने के लिए इस पेंशन योजना की शुरुआत की गई है. ये सभी वृद्ध को मिलेगा चाहे वो एपीएल हो या बीपीएल हो. इससे घरों में वृद्धजनों का सम्मान बढ़ेगा. अबतक 2 लाख आवेदन प्राप्त किया है और इनको अप्रेल माह से भुगतान भी किया जायेगा जो सीधे उनके बैंक खातों में जायेगी. आज 1लाख 36 हजार लोगों का भुगतान किया गया.

माता-पिता और बूजुर्गों के अलावा महिलाओं के सम्मान का भी नीतीश सरकार ख्याल रख रही है. इसके लिए बेटी उत्थान योजना चलाया गया है जिसके अंतर्गत भी कई लाभ मिलते हैं. इससे पहले साइकिल और पोशाक योजना भी चलाई गई है, जिसमे पोशाक की राशि को पहले के अपेक्षा अब बढ़ाया गया है. सैनिटरी नेपकिन की भी राशि को 150 रुपये से बढाकर 300 किया गया है.

बाल विवाह से बचाने के लिए लड़की को इंटर की पढ़ाई के बाद 10,000 की राशि दिया जाएगा और ग्रेजुएशन के बाद 25 हजार की राशि दी जाएगी. हर लड़की को पैदा से लेकर ग्रेजुएशन तक उसके देखभाल के लिए प्रत्येक लड़की को 54 हजार रुपये की राशि राज्य सरकार दे रही है.

नीतीश ने कहा, '' हमने सेवा किया है. न्याय के साथ विकास किया है और ये 13 सालो से करते रहे हैं. यही हमारा धर्म है, समाज के सुधार के लिए गांधी जी के प्रथा के अनुसार कई काम किया. उनके अनुसार 7 सामाजिक पाप को बताने के लिए सभी स्कूलों में व सरकारी कार्यालय में इसका प्रचार किया जा रहा है. उनका कहना की अपने पद का दुरुपयोग कर धन कमाना पाप है, चरित्र के बिना ज्ञान, नैतिकता के बिना व्यापार, मानवता के बिना विज्ञान पाप है, त्याग के बिना पूजा करना भी पाप, काम के बिना धन, और ये धरती सभी चीजों को पूरा कर सकती है पर लालच को पूरा नही कर सकती. लोगो के बीच मे जागरण लाने की जरूरत है और हम वो सब कर रहे हैं.''

Share it
Top