Top
Home > लाइफस्टाइल > गैजेट्स > पीएम मोदी ने लॉन्च किया नया कार्ड, एक ही कार्ड से होंगे आपके ये सभी काम

पीएम मोदी ने लॉन्च किया नया कार्ड, एक ही कार्ड से होंगे आपके ये सभी काम

पीएम मोदी ने लॉन्च किया नया कार्ड, एक ही कार्ड से होंगे आपके ये सभी काम

अगर आप मेट्रो में सफर के साथ...Editor

अगर आप मेट्रो में सफर के साथ ही अपनी कार से हाइवे पर भी आना-जाना करते हैं. ऐसे में अगर आप हर जगह अलग-अलग कार्ड का यूज करते हैं तो यह खबर आपके काम की है. जी हां, पीएम मोदी ने लोगों को देशभर में मेट्रो सर्विस और टोल टैक्स समेत कई तरह के परिवहन शुल्क का भुगतान करने में सक्षम स्वदेशी निर्मित नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड (NCMC) का सोमवार को शुभारंभ किया. अलग-अलग परिवहन सेवाओं में यूज किए जाने वाले 'एक राष्ट्र एक कार्ड' कहे जा रहे इस कार्ड से आप बस का किराया, टोल टैक्स, पार्किंग शुल्क, रिटेल खरीददारी कर सकेंगे और यहां तक कि पैसा भी निकाल सकेंगे.नकद भुगतान के लिए खुल्ले की झंझट खत्म होगीप्रधानमंत्री ने अहमदाबाद मेट्रो ट्रेन सेवा के पहले चरण का उद्घाटन करते हुए एनसीएमसी का भी शुभारंभ किया. मोदी ने कहा, 'यह कार्ड रुपे कार्ड से चलता है और इससे आपकी यात्रा संबंधी सभी परेशानी खत्म हो जाएगी. कई बार आपके पास मेट्रो, बस या ट्रेन या टोल और पार्किंग देने के लिए नकद में भुगतान करने के लिए खुल्ले रुपये नहीं होते. इस झंझट से छुटकारा पाने के लिए एक स्वचालित किराया संग्रह प्रणाली लाई गई.'कॉमन मोबिलिटी कार्ड से पैसे भी निकाल सकेंगेउन्होंने कहा कि भारत इस प्रणाली को अभी तक विदेशों से आयात करता रहा है. उन्होंने कहा, 'चूंकि यह प्रणाली अलग-अलग लोगों ने बनाई थी तो एक शहर में जारी कार्ड दूसरे शहर में काम नहीं करता था. इसलिए हमने इस मुद्दे से निपटने के लिए कई मंत्रालयों, विभागों और बैंकों से कहा.' मोदी ने कहा, अब 'एक राष्ट्र एक कार्ड' का हमारा सपना साकार हो गया. लोग इस कॉमन मोबिलिटी कार्ड से पैसे भी निकाल सकते हैं.इस रुपे कार्ड को आप देश के किसी भी हिस्से में शहर में सफर करने के लिए यूज किया जा सकता है. आसान शब्दों में कहे तो रुपे कार्ड का मोबिलिटी कार्ड से विलय कर दिया गया है. पीएम मोदी ने कहा कि इस स्वदेश निर्मित और अपनी तरह के पहले कार्ड से देश को विदेशी तकनीक पर निर्भर रहने की जरुरत नहीं है. प्रधानमंत्री ने कहा, 'अब हमारे पास 'मेड इन इंडिया' कार्ड है. चुनिंदा देशों में 'एक राष्ट्र एक कार्ड' की तकनीक है.'

Share it
Top