Top
Home > देश > ये नेता भड़का चुके हैं चुनावी महासमर में विवादों की आग

ये नेता भड़का चुके हैं चुनावी महासमर में विवादों की आग

ये नेता भड़का चुके हैं चुनावी महासमर में विवादों की आग

लखनऊ. यूपी विधान सभा चुनावों...Public Khabar

लखनऊ. यूपी विधान सभा चुनावों के 5वें चरण का मतदान होना है। इस बीच नेताओं की जुबानी जंग अपने चरम पर है। यहाँ तक कि नेता रणनीतिकारों की सलाह से एक दूसरे के ऊपर जबानी हमले कर रहे हैं। कांग्रेस -सपा गठबंधन के सलाहकार और रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने जबतक यह सलाह दी कि पीएम नरेंद्र मोदी के ऊपर तीखे हमले न हों, तब तक चुनाव के चार चरण निकल चुके हैं।

सुरेश बालियान

यूपी विधान सभा चुनाव 2017 में विवादित बयानों की शुरुआत का श्रेय केंद्रीय मंत्री सुरेश बालियान को जाता है। उन्होंने कह दिया कि मुलायम सिंह का मरने का वक्त आ गया है। बालियान ने कहा कि सपा के शासन में यूपी ने बुरा राज देखा है। मुलायम ने हमेशा सांप्रदायिकता की राजनीति की है। मैं उनसे कहना चाहुंगा कि अब तो मरने का समय आ गया है।

नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी एक ऐसे नेता हैं जिनके बयां की चर्चा को बनाए रखने के लिए विपक्षी जाने-अनजाने मेहनत करते रहते हैं। उनकी वाक-पटुता ही उन्हें एक सफल वक्ता बनाती है। पीएम एक रैली के दौरान यूपी सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए कहा था कि अगर गांव में कब्रिस्तान बनता है तो श्मशान भी बनना चाहिए। रमजान में बिजली आती है, तो दीवाली में भी आनी चाहिए। भेदभाव नहीं होना चाहिए। पीएम के इस विवाद के बार कई विपक्ष के नेताओं ने पीएम मोदी के इस बयान की बहुत निंदा की थी।


अखिलेश यादव

यूपी के सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रायबरेली के ऊंचाहार में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अमिताभ बच्चन से यह अपील की कि वह गुजरात के गधों का प्रचार ना करें। जिसके बाद पीएम मोदी ने भी अखिलेश को जवाब देने में देरी नहीं की। पीएम ने कहा मैं गर्व से गधे से प्रेरणा लेता हूं और देश के लिए गधे की तरह काम करता हूं। सवा सौ करोड़ देशवासी मेरे मालिक हैं। गधा वफादार होता है उसे जो काम दिया जाता है वह पूरा करता है।

राजेंद्र चौधरी

समाजवादी पार्टी नेता और प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह दोनों आतंकवादी हैं। दोनों ही लोकतंत्र में आतंक पैदा कर रहे हैं। यह बात मैं आप लोगों के माध्यम से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी और उनके जो राजनैतिक आका हैं प्रधानमंत्री जी, उन तक पहुंचाना चाहता हूं।

सुरेश राणा

बीजेपी विधायक सुरेश राणा ने कहा कि अगर बीजेपी की सरकार बनी तो कैरान, देवबंद और मुरादाबाद में कर्फ्यू लगा दिया जाएगा। आपको बता दें कि सुरेश राणा का नाम मुजफ्फनगर दंगे के आरोपियों भी शामिल है।
शिवराज सिंह

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लिए चुनाव प्रचार करने आए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कह दिया कि आजम खान ऐसे नेता हैं कि उनका नाम ले लूं तो नहाना पड़ता है।
विनय कटियार

बीजेपी के फायरब्रांड नेता और राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा था कि प्रियंका गांधी से ज्यादा सुंदर बीजेपी में अभिनेत्रियां और प्रचारक महिलाएं हैं। प्रियंका के प्रचार करने पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। इस बयान के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने आलोचना की और कहा कि इस तरह के बयान सत्ता में बैठी सरकार के लिए सही नहीं हैं।
राम करन आर्या

यूपी सरकार में मंत्री राम करन आर्या ने कहा है कि वह तो बिना कांग्रेस के भी सरकार बना सकते थे, मगर बहुत बड़े राक्षस को मारने के लिए हमने छोटे-छोटे शैतानों को इकट्ठा किया है। अगर यह महान राक्षस (बीजेपी) आ जाएगा तो इस मुल्क और प्रदेश में खूनखराबा कर देगा।

आजम खान

यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान के बोले बिना तो यूपी की पॉलिटिक्स का कोई चैप्टर पूरा ही नहीं होता। आज़म खान ने यूपी चुनाव में कहा कि मुसलमानों इसलिए ज्यादा बच्चे पैदा करते हैं क्योंकि उनके पास कोई काम नहीं होता है। ये कुछ ऐसे बयान थे जिसमें पार्टी नेताओं ने अपनी सभी मर्यादा भूलकर एक-दूसरे पर जमकर निशाना साथा। लेकिन सवाल उठता है कि क्या चुनाव के समय नेताओं को इस तरह के बयान देने चाहिए या फिर प्रदेश में हुए अपने कामों को लेकर उसका खुलकर प्रचार करना चाहिए।

Tags:    
Share it
Top