Top
Home > राजनीति > पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव: वोटिंग के दौरान खून-खराबा, दो को जिंदा जलाया

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव: वोटिंग के दौरान खून-खराबा, दो को जिंदा जलाया

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव: वोटिंग के दौरान खून-खराबा, दो को जिंदा जलाया

पश्चिम बंगाल में सोमवार सुबह 7 ...Editor

पश्चिम बंगाल में सोमवार सुबह 7 बजे से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया , लेकिन राज्य से कई जगहों पर बूथ कैप्चरिंग, मतदाताओं को वोटिंग से रोकने, पुलिस की मौजूदगी में झगड़े – मारपीट की घटनाएं सामने आई हैं. एक मंत्री ने पुलिस केे सामनेे ही बीजेपी कार्यकर्ता को थप्पड़ मार दिया. भंगार में एक मीडिया वाहन को फूंक दिया गया और एक कैमरा भी तोड़ दिया गया. मीडिया को उस क्षेत्र में प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी गई है. सीपीआईएम ने ममता बनर्जी सरकार के निष्पक्ष चुनाव कराने के दावे पर सवाल उठाते हुए कहा है कि चुनाव से पहले रात में उसके दो कार्यकर्ताओं देबदास और ऊषादास को जिंदा जला दिया गया. वहींं, कूच बिहार में एक विस्फोट में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार समेत 20 लोग घायल हो गए.


आप पश्चिम बंगाल में हो रहे चुनाव के बीच हिंसक घटनाओं के वीडियो और फोटोज सामने आए हैं. सुबह से ही समाज के विभिन्न तबके के लोगों को मतदान केंद्रों के बाहर लंबी-लंबी कतारों में खड़े देखा गया.

राज्य के साउथ 24 परगना में हिंसा में एक टीएमसी कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई है. चुनाव के दौरान हिंसक झड़पों में तृणमूल कार्यकर्ता आरिफ गाजी को गोली मार दी गई, जिससे उसकी मौत हो गई.

टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बिल्कंद में एक बीजेपी समर्थक पर चाकू से हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया. उसका इलाज चल रहा है.

माकपा ने अपने दो कामरेडों की हत्या का आरोप लगाते हुए ममता बनर्जी से सवाल किया है.
वीडियो में पश्चिम बंगाल के मंत्री रबींद्र नाथ घोष (पीले कुर्ते में) बीजेपी समर्थक सुजीत कुमार दास को थप्पड़ मारते नजर आ रहे हैं. ये घटना कूच बिहार के बूथ नंबर 8/12 में पुलिस की मौजूदगी के सामने हुई.

बिलकांडा में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने चाकू से एक बीजेपी समर्थक पर हमला कर दिया. इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया. हमले के बाद गंभीर रूप से घायल बीजेपी कार्यकर्ता का इलाज चल रहा है.

भांगार में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बूथ कैप्चरिंग की. ये आरोप लगाते हुए स्थानीय लोगों ने सड़क पर चक्काजाम कर दिया.

टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बिरपारा में बूथ संख्या 14/79 में मतदाताओं को प्रवेश करने से रोकते नजर आए हैं.

बता दे कि राज्य में चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में अनुमान जताया गया था कि बीजेपी इन चुनाव में वाममोर्चे और कांग्रेस को पीछे छोड़ देगी और तृणमूल कांग्रेस के सामने मुख्य विपक्षी दल के तौर पर सामने उभरकर आएगी. आंकड़ों से पता चलता है कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 58,692 सीटों में से 20,076 सीटों पर पहले ही निर्विरोध उम्मीदवार चुन लिए गए हैं. सुप्रीम कोर्ट ने राज्य निर्वाचन आयोग से निर्विरोध जीतने वाले उम्मीदवारों के सर्टिफिकेट जारी नहीं करने को कहा है.

राज्य निर्वाचन आयोग का कहना है कि चुनाव के लिए सुरक्षा के सभी इंताजम किए हैं और लगभग 71,500 सशस्त्र सुरक्षाकर्मियों को तैनात हैं.

Tags:    
Share it
Top