Top
Home > प्रदेश > उत्तराखंड > उत्तराखंडः पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई गांवों में घुसा पानी, सहमे लोग

उत्तराखंडः पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई गांवों में घुसा पानी, सहमे लोग

उत्तराखंडः पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई गांवों में घुसा पानी, सहमे लोग

उत्तराखंड के कुमाऊं स्थित...Editor

उत्तराखंड के कुमाऊं स्थित पिथौरागढ़ तहसील के बलाती क्षेत्र में सुबह बादल फटने से लोग सहम गए है। दर्जनों गांवों में पानी भर गया है। कई मकान गिरने के साथ ही पुल भी बह गए हैं।

वहीं कई सड़कें मलबे से पट गई हैं। हालांकि अभी जनहानि की सूचना नहीं है। बादल फटने से यहां सेरा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट और उसके डैम को नुकसान पहुंचा है। मिलम रुट पर धापा के सुरिंग और जिमलानी पुल बह गए हैं।

मुनस्यारी में रविवार शाम से हुई मूसलाधार बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। एसडीएम गेट के पास का नाला और नई बस्ती से आने वाले नाले के उफनाने से बस स्टेशन में मन इलेक्ट्रॉनिक और बंगाली होटल का काफी नुकसान हुआ है।

वहीं मुख्य बाजार में कई दुकानों में मलबा और पानी भर गया है। मलबा से बलौंता, जैंती, रांथी, मालुपति में भी मकानों और रास्तों के दरकने की सूचना है। जबकि मप्वालाबड़ा में भगत म्प्वाल के 50 खरगोश के दबने की सूचना है।

मुनस्यारी टैक्सी स्टैंड के पास गोकर्ण मर्तोलिया के मकान की सुरक्षा दीवार ध्वस्त होकर कमरों में पानी भर गया है। सेराघाट के पुल की दीवार और दानिबगड़ डैम टूटने से तीन गाड़ियों के नुकसान की खबर है। बारिश आफत बनकर बरस रही है।

सूचना मिलने पर उपजिलाधिकारी कृष्ण नाथ गोस्वामी मौके पर पहुंचे और उन्होंने स्थिति का जायजा लिया। हालांकि उन्होंने बादल फटने की बात से इनकार किया है। उनका कहना है कि 24 घंटों में हुई भारी बारिश के कारण नाले उफान पर हैं, इससे ही मुनस्यारी मुख्यालय में नुकसान हुआ है। थल से मुनस्यारी जाने वाली सड़क नाचनी के पास रातीगाड़ में बह गई है।

Tags:    
Share it
Top