Top
Home > प्रदेश > उत्तराखंड > 'नितिन भैया अब मैं किसके साथ रहूंगी, मैं भी जीना नहीं चाहती' इतना कहा और लगा ली आग

'नितिन भैया अब मैं किसके साथ रहूंगी, मैं भी जीना नहीं चाहती' इतना कहा और लगा ली आग

नितिन भैया अब मैं किसके साथ रहूंगी, मैं भी जीना नहीं चाहती इतना कहा और लगा ली आग

नितिन भैया अब मैं किसके साथ...Editor

नितिन भैया अब मैं किसके साथ रहूंगी, मैं भी जीना नहीं चाहती...ये कहते हुए कोमल कमरे में चली गई और नितिन शुभम के पास अस्पताल। कुछ देर बाद घर से चिल्लाने की आवाज आई तो लोगों ने कोमल को जलते हुए देखा। जैसे-तैसे लोगों ने आग बुझाई और कोमल को अस्पताल पहुंचाया। यहां अब कोमल भी जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है।

दरअसल, कोमल मेरठ की रहने वाली है और परिजनों की मर्जी के बगैर शुभम से शादी की थी। वह पांच माह पहले शुभम के साथ देहरादून आई थी। बकौल नितिन (शुभम का बड़ा भाई) उन्होंने उस वक्त ही पुलिस को जानकारी दी थी और एक मंदिर में शुभम और कोमल की शादी कराई थी। इसके बाद से नितिन कोमल को बहन मानने लगा था।

हादसे की खबर मिलते ही कोमल बस यही कह रही थी कि 'जिसके भरोसे मैं अपने मां-बाप को छोड़कर यहां आई थी अब वही नहीं रहा तो मैं भी जी कर क्या करूंगी? अब मेरे मां-बाप भी मुझसे बात नहीं करते हैं।' नितिन के अनुसार उसने कोमल को काफी समझाया। कुछ देर बाद जब वह थोड़ी नॉर्मल हुई और कमरे में चली गई। नितिन अपनी मां के साथ शुभम के पास अस्पताल (मोर्चरी) आ गया। थोड़ी देर बाद ही खबर मिली कि कोमल ने भी आत्मघाती कदम उठा लिया है।

ताऊ की टैक्सी चलाता था शुभम

हादसे में हो गई शुभम की मौत

हादसे में हो गई शुभम की मौत

शुभम के ताऊ दिल्ली क्राइम ब्रांच में तैनात हैं। उन्होंने ही शुभम को इन्नोवा खरीदकर टैक्सी में चलाने को दी हुई थी। शुभम ने पहले ही पढ़ना लिखना छोड़ दिया था अब टैक्सी चलाकर ही वह अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा था। शुभम का बड़ा भाई नितिन मुजफ्फरनगर से पढ़ाई कर रहा है।

चिकित्सकों से मिली जानकारी के अनुसार कोमल लगभग 60 से 70 फीसदी तक झुलस चुकी है। फिलहाल उसका उपचार चल रहा है। फरार ट्रक चालक की तलाश की जा रही है। थाने में अज्ञात चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। ट्रक को चौकी लाकर सीज कर दिया गया है।

Tags:    
Share it
Top