Home > प्रदेश > उत्तराखंड > आईएएस स्टिंग केस: आरोपी उमेश कुमार शर्मा के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज

आईएएस स्टिंग केस: आरोपी उमेश कुमार शर्मा के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज

आईएएस स्टिंग केस: आरोपी उमेश कुमार शर्मा के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज

आईएएस स्टिंग केस के आरोपी...Editor

आईएएस स्टिंग केस के आरोपी उमेश कुमार शर्मा के खिलाफ गुरुवार को ब्लैकमेलिंग और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में एक और मुकदमा दर्ज किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, मुजफ्फरनगर के विनय मलिक ने देहरादून के राजपुर थाने में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। उन्होंने उमेश के साथ आशीष, प्रकाश, जितेंद्र और विक्रम पर भी संगीन आरोप लगाए हैं। इन पर बगराल वाला स्थित विनय के प्लॉट को जबरन कब्जाने, उससे मारपीट करने और प्लाट को मनमाने दाम पर बेचने का दबाव बनाने के आरोप हैं। यह घटना नवंबर 2017 की है।

वहीं राजपुर पुलिस उमेश शर्मा को उसके पुरुकुल गांव स्थित घर पर लेकर गई है। जहां पर छानबीन की जानी है। गुरुवार सुबह 10 बजे सुद्धोवाला जेल से मेडिकल कराने के बाद एसओ राजपुर अरविंद कुमार आरोपी उमेश को पुरुकुल लेकर गए। बता दें कि उमेश सात घंटे की पुलिस कस्टडी रिमांड में हैं।

उमेश और आयुष का ऑडियो क्लिप वायरल

चैनल के सीईओ उमेश शर्मा और पत्रकार आयुष गौड़ के बीच बातचीत की एक ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। ऑडियो में उमेश सरकार पर दबाव बनाने की नियत से आयुष को निर्देश दे रहा है। बातचीत से स्पष्ट है कि वह किसी भी तरह दिल्ली में तैनात तत्कालीन अपर स्थानिक आयुक्त मृत्युंजय मिश्रा को टूल बनाकर अपर मुख्य सचिव (एसीएस) ओमप्रकाश को पैसे पकड़ाना चाहता था।

हालांकि, यह ऑडियो वाकई उमेश और आयुष की बातचीत का है या झूठा है, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। बताया जा रहा है कि यही ऑडियो पुलिस के पास भी है, जिसे जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा गया है।

उमेश कुमार शर्मा के खिलाफ आयुष ने जो आरोप लगाए हैं, उनकी काफी हद तक यह ऑडियो क्लिप तस्दीक कर रही है। वह आयुष से कह रहा है कि पार्टी (टेंडर हासिल करने वाले लोग) के साथ वह मृत्युंजय मिश्रा से मिले और बातचीत करे। यदि पैसा मृत्युंजय मिश्रा मांगे तो उन्हें बिल्कुल नहीं देना है। वह आगे आयुष से कहता है कि यदि एसीएस ओमप्रकाश से बात हो जाए तो पार्टी को किसी तरह से बाहर भेजकर उनके सामने प्रसाद (रुपये) रख दे। दोनों की बातचीत के इस ऑडियो में साफ सुनाई देता है कि उमेश प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत से भी हां कराना चाह रहा था। बार-बार सीएम पर दबाव बनाने की बात ऑडियो में कही जा रही है, ताकी कोई भी काम न रुके।

Tags:    
Share it
Top