Top
Home > प्रदेश > उत्तराखंड > उत्तराखंड में खूंखार कुत्तों का आतंक, इस शहर में 37 लोगों को काटा

उत्तराखंड में खूंखार कुत्तों का आतंक, इस शहर में 37 लोगों को काटा

उत्तराखंड में खूंखार कुत्तों का आतंक, इस शहर में 37 लोगों को काटा

खूंखार कुत्ते के काटने पर...Editor

खूंखार कुत्ते के काटने पर रैबीज से एक महिला की मौत होने के बाद भी जिला प्रशासन की नींद नहीं टूट रही है। साथ ही नगर निगम भी आवारा कुत्तों को पकड़ने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है।

आवारा कुत्तों ने शुक्रवार को फिर 37 लोगों को काटा, जिन्हें अस्पताल में एंटी रैबीज इंजेक्शन लगाए गए। पिछले वर्ष भी खूंखार कुत्तों ने कई लोगों को काटा था। नगर निगम से लेकर प्रशासन तक के अधिकारियों ने बड़े-बड़े दावे किए थे मगर सारे दावे हवा-हवाई साबित हुए।

खूंखार कुत्ते पिछले वर्ष नैनीताल में एक बालिका पर झपट पड़े थे और बालिका की खाई में गिरने से मौत हो गई थी। इन खूंखार कुत्तों ने लोगों का सड़क पर चलना मुश्किल कर दिया है। कुत्ते कभी भी किसी पर हमला कर दे रहे हैं।
इनकों खूंखार कुत्तों ने काटा
- चंद्रशेखर चोरगलिया, नाजिर इंदिरानगर, पूजा राजपुरा, अंकिता शीशमहल, लवनी गौलापार, अनिल गौलापार, रेखा गौलापार, चंचल गौलापार, साक्षी लालकुआं, नीरज गांधीनगर, महेश लाल देवलचौड़, कुंती देवी दमुवाढूंगा, प्रेमबल्लभ मुखानी, आनिया हल्द्वानी, अल्पेज मोहम्मदी चौक, आत्मा सिंह हरिपुर जमनसिंह, प्रदीप पाठक, नंद किशोर लालकुआं, अंकित फुटकुआं, लता फुटकुआं, भूपेंद्र सिंह धान मिल, हरीश पांडे आदर्श नगर, योगिता मोटाहल्दू, कला देवी टनकपुर रोड, मीना पांडे दमुवाढूंगा, विनीत साहू इंदिरा नगर, पीयूष लामाचौड़, दीक्षा कठघरिया, बाल किशन मोटाहल्दू, अमर सिंह गौलापार, हरिनंद जोशी डहरिया, भावेश प्रेमपुर लोशज्ञानी, इंदु बोरा फतेहपुर, भूपेंद्र कौर तिकोनिया, मुन्नी देवी बिंदुखत्ता, मनीष चमियाल देवलचौड़।

दो दिनों से व्यस्तता के चलते इस मामले में अभी कोई कार्रवाई नहीं हुई है। शनिवार को हल्द्वानी में अधिकारियों के साथ बैठक कर समस्या का समाधान खोजा जाएगा। जरूरत पड़ने पर आवारा कुत्तों को एंटी रैबीज के इंजेक्शन लगाए जाएंगे।

Tags:    
Share it
Top