Home > प्रदेश > उत्तरप्रदेश > महराजगंज में इस चेहरे को आगे कर, ब्राह्मणों को दिया भरोसा अखिलेश ने

महराजगंज में इस चेहरे को आगे कर, ब्राह्मणों को दिया भरोसा अखिलेश ने

महराजगंज में इस चेहरे को आगे कर, ब्राह्मणों को दिया भरोसा अखिलेश ने

महाराजगंज. पूर्वांचल में राजनै...Public Khabar

महाराजगंज. पूर्वांचल में राजनैतिक जातीय समीकरण में सवर्णों और उनमें भी ब्राह्मणों ने हमेशा से अहम किरदार निभाया है। अखिलेश यादव ने भी राजनीति के मंझे खिलाड़ी की तरह पूर्वांचल की इस महत्वपूर्ण सीट पर भविष्य का एक ब्राह्मण चेहरा उतारकर विरोधियों के लिए अभी से संकट पैदा कर दिया है।

दरअसल अखिलेश यादव ने इस क्षेत्र की नब्ज पहचानते हुए और 2017 के परिणामों की परवाह न करते हुए 2022 के विधान सभा चुनावों की तैयारी अभी से शुरू कर दी है। अखिलेश यादव ने इस एक सीट" पर 'ब्रह्मण नेता' को उतार कर अभी से 2022 के लिए 'जीत की स्क्रिप्ट' लिखनी शुरू कर दी है।

लगभग पिछले एक दशक से महाराजगंज का फलक सशक्त ब्राह्मण विहीन से मरहूम नजर आ रहा था। लेकिन इस बार जब चुनाव -प्रचार के लिए अखिलेश इस इलाके में पहैन्चे तो उनकी भी तलाश खत्म हितीं नजर आई युवा नेता अमित चौबे के रूप में।

हाल ही में छिड़े समाजवादी परिवार के महासंग्राम में अमित अखिलेश यादव के साथ एक मजबूत स्तम्भ की तरह खड़े नजर आए थे। अमित ने अखिलेश विरोधियों को एक-एक कर किनारे लगाया और अखिलेश यादव ने लिए मार्ग प्रशस्त करते गए। अमित अखिलेश यादव के विरोधियों के खिलाफ काफी मुखर रहे और ब्राह्मण हितों के लिए भी आवाज उठाते रहे।

अखिलेश यादव को भी अमित की समाजवादी पार्टी और ब्रहामणों के प्रति उनकी यही दीवानगी भा गई। 26 फरवरी को जब अखिलेसव यादव महाराजगंज की नौतनवा विधानसभा सीट पर जनसभा को संबोधित करने आये तो भाषण के दौरान अमित के नाम का जिक्र अलग से करना नही भूले। यही नहीं अखिलेश यहाँ से अमित को विशेष तौर पर सिसवां विधानसभा में हो रही चुनावी रैली के लिए भी अपने साथ ले गए। अमित ने यहाँ अखिलेश यादव के निर्देश जनसभा को संबोधित भी किया।

बताते चलें कि इस बार नौतनवा सीट सपा-कांग्रेस गठबंधन के चलते कांग्रेस के खाते में जा चुकी है और अमित का टिकट कट गया। लेकिन अखिलेश यादव ने संगठनात्मक कार्यों और विधानसभा के लिए अमित ओर भरोसा जता कर 2022 विधानसभा चुनाविन के लिए अभी से स्क्रिप्ट लिखनी शुरू कर दी है।

अमित ने भी टिकट कटने के बावजूद अखिलेश यादव के भरोसे को कायम रखा और उनके साथ मुश्किल घड़ी में डटे रहे। यही कारण है कि अखिलेश यादव ने चुनावी जनसभा में अमित की मुक्तकंठ प्रशंसा की।

अमित चौबे की गिनती इन दिनों महाराजगंज के युवा ब्रह्मण नेताओं में की जाती हैं। वे फरेंदा विधानसभा के निवासी है। अमित छात्र जीवन से ही समाजिक कार्यों के प्रति सक्रिय रहे है। वर्ष 2007 में सपा युवजन सभा के महराजगंज के जिलाध्यक्ष बने। इसके बाद 2009 में युवजनसभा के प्रदेश सचिव बने और तब से सपा के लिए काम कर रहे है। समय समय पर अखिलेश यादव कई चुनावों में इन्हें महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी दे चुके है।

Tags:    
Share it
Top