Top
Home > Latest News > चिलचिलाती धूप में इन फलों का करेंगे सेवन तो गर्मी रहेगी आपसे दूर

चिलचिलाती धूप में इन फलों का करेंगे सेवन तो गर्मी रहेगी आपसे दूर

चिलचिलाती धूप में इन फलों का करेंगे सेवन तो गर्मी रहेगी आपसे दूर

मौसम के साथ खानपान की आदतों...Editor

मौसम के साथ खानपान की आदतों में भी बदलाव आना चाहिए, और जहां तक बात गर्मियों की जाए तो इस मौसम में भूख कम लगती है। नतीजतन शरीर में पोषक तत्‍वों की कमी होने का अंदेशा हमेशा बना रहता है। इस कमी को फलों के जरिए पूरा किया जा सकता है। चिलचिलाती धूप और गर्म हवाएं स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होती हैं। गर्मियों में मिलने वाले आम, तरबूज, खरबूज, बेल व मौसमी आदि फल प्रतिदिन खाने से बीमारियों के खतरे को कम किया जा सकता है। फलों में बहुत सारे पौष्टिक तत्‍व होते हैं जो शरीर को मजबूत और स्वस्थ बनाते हैं। आइए नजर डालते हैं गर्मियों के कुछ खास फूड्स पर, जो बाजार में सहज उपलब्ध है:

तरबूज

तरबूज गर्मियों शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है। इसमें पानी, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। तरबूज में विटामिन्स भी पाये जाते है, इसमें कोलेस्ट्राल नहीं होता, यह आखों के लिए भी उपयोगी होता है। गर्मियों में भरपूर तरावट के लिए हर दिन एक प्लेट तरबूज जरूर खाएं, लेकिन तरबूज खाने के साथ पानी न पिएं।

सत्तू

धूप की तपिश बढ़ने के साथ ही लोकप्रिय पेय पदार्थ सत्तू सभी की पसंद बन जाती है। रेलवे स्टेशन से लेकर बस अड्डा तक ठेलों पर सत्तू बिकते हुए दिख जाएगी। लू से बचने के लिए लोग धनिया, प्याज से मिला हुआ सत्तू का सेवन करना पसंद करते हैं। आम हो या खास सभी गर्मी के दिनों में इसका सेवन जरूर करते हैं।

बेल में है औषधीय गुणों का मेल

आयुर्वेद में बेल को स्वास्थ्य के लिए काफी लाभप्रद फल माना गया है। आयुर्वेद के अनुसार पका हुआ बेल मधुर, रुचिकर, पाचक तथा शीतल फल है। कच्चा बेलफल रुखा, पाचक, गर्म, वात-कफ, शूलनाशक व आंतों के रोगों में उपयोगी होता है। उदर विकारों में बेल का फल रामबाण दवा है। वैसे भी अधिकांश रोगों की जड़ उदर विकार ही है। बेल के फल के नियमित सेवन से कब्ज जड़ से समाप्त हो जाती है। कब्ज के रोगियों को इसके शर्बत का नियमित सेवन करना चाहिए।

नारियल पानी

नारियल के पानी में कुछ ऐसे तत्व पाये जाते हैं, जिसकी गर्मी के दिनों में शरीर को काफी जरूरत होती है। एक नारियल में करीब 200 मिलीलीटर या उससे कुछ अधिक मात्रा में पानी होता है। ये मीठा और ताजगीभरा होता है। साथ ही नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है। नारियल में विटामिन, पोटैशियम, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन और खनिज तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। नारियल कई बीमारियों के इलाज में काम आता है। नारियल में वसा और कॉलेस्ट्रॉल नहीं होता है, इसलिए नारियल मोटापे से भी निजात दिलाने में मदद करता है। वैसे तो नारियल पानी कभी भी पिया जा सकता है, जिन्हें पेट संबंधी समस्याएं हैं, एसिडिटी या अल्सर की समस्या है उनके लिए यह लाभदायक है।

खीरा

खीरे में लगभग 80 से 85 फीसदी तक पानी होता है। गर्मी में खीरा खाने से शरीर में पानी की कमी की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है। कहा तो यह भी जाता है कि पाचन में सलाद के तौर पर खीरे के सेवन से काफी फायदा पहुंचता है। खीरे में कई महत्वपूर्ण गुण होते हैं, जो शरीर के लिए कई तरह से लाभकारी हैं। इसमें पोटेशियम और मैग्नीशियम सरीखे पोषक तत्व पाए जाते हैं। पोटेशियम दिल की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है।

खरबूजा

गर्मी के मौसम के लिए खरबूज सबसे अच्छे फलों में से एक माना जाता है। ध्यान रहे खरबूजे के साथ पानी नहीं पीएं। इसमें विटामिन ए, बी, सी, मैग्नीशियम, सोडियम और पोटेशियम होता है। इसमें मौजूद फॉलिक एसिड गर्भवती महिलाओं और बच्चे को स्वस्थ रखता है। यह थकान कम करता है और अनिद्रा की समस्या में भी लाभदायक है।

आम पन्ना

आम का पन्ना बहुत ही स्वादिष्ट होता है। जब गर्मी अपने चरम पर हो तब आप आम का पन्ना पी सकते हैं। फौरन राहत मिलेगी। बिहारवासी इसका खूब सेवन करते हैं। गर्मी के दिनों में इसके सेवन से शरीर को शीतलता व तरावट मिलती है और लू से भी बचा जा सकता है।

संतरा

खट्टे फलों की श्रेणी में आने वाले संतरे में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा संतरा विटामिन ए, बी कॉम्प्लेक्स, अमीनो एसिड, कैल्शियम, आयोडीन, फॉस्फोरस, सोडियम, मैगनीज जैसे अन्य पोषक तत्वों की खान भी है। संतरा की तासीर ठंडी होती है, इसके साथ ही, जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए इसमें मौजूद फाइबर फायदेमंद रहते हैं। रोज दो संतरा खाने से जुकाम, कोलेस्ट्रॉल, किडनी में पथरी और कोलन कैंसर जैसी बीमारियों से रक्षा होती है।

आलूबुखारा

आलूबुखारा बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि यह मीठा, जूसी और विटामिन सी से परिपूर्ण होता है। आलूबुखारा खाने से शरीर को आयरन मिलता है, जो शरीर में रक्त, प्रवाह को बेहतर बनाए रखने में मददगार होता है। इसमें एंटी आक्सीडेंट और पौष्टिक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है, जो बीमारी से बचाते है। यह कैलोरी और वसा से भी बिल्कुल मुक्त है। इसे छिलके के साथ खाना चाहिए क्योंकि इसके ज्यादातर पौष्टिक तत्व इसी में होते हैं। यह कैंसर प्रतिरोधी भी होता है।

चकोतरा

गर्मियों में यह सूर्य के प्रकाश के हानिकारक प्रभाव को कम करता है। खट्टे प्रभावित करने वाले उपयोगी गुण, चकोतरा फल दिल और रक्त वाहिकाओं पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है जो पोटेशियम, मैग्नीशियम और लोहा, शामिल हैं। यह पाचक एंजाइम का उत्पादन करने में मदद करता है।

Share it
Top